थ्री ईडीयट्स-2

(Three Idiots-2)

प्रेषक : जो हण्टरअरे नहीं भैया … चोदना-चुदाना सब शादी के बाद ! राधा ने चुहलबाजी की।तो मुन्नी तुझे ठिकाने लगाता हूँ। मेरी नज़रें अब राधा की चूत पर थी।

अरे तेरा दिमाग तो ठीक है? मैं तो तेरी बहन हूँ ! मुन्नी ने आंखें तरेर कर कहा।

तो क्या हुआ, मस्ती में तो सब ठीक है, जायज है। मैंने जिद करने की कोशिश की।

नहीं है जायज। तुम हमारे साथ कुछ भी करो पर लण्ड दूर ही रखना चूत से। दोनों ही एक साथ बोली।

ओह, तो मतलब तड़पते ही रहना है। अच्छा मुठ तो मार दो कोई रे। मेरी आह निकल गई।

नहीं अभी नहीं, एक सहेली का तजुर्बा है शाम को कर के देखेंगे। अभी कॉलेज चलें?

शाम को लौटते समय हम तीनों एक दुकान से हो कर आये जहाँ से राधा ने तीन मोमबत्तियाँ अलग अलग मोटाई की ली। एक तो आधा इन्च की, एक एक इन्च की और एक डेढ इन्च की। फिर वो मेरी तरफ़ देख कर मुस्कराई। शाम को हम तीनों ने मिलकर हमेशा की तरह भोजन बनाया और जल्दी ही खा लिया। मैं बहुत ही असमंजस में था। क्या ये मोमबत्तियों से चुदवायेंगी।

तो शुरू करें? राधा बोली।

पहले मैं, या तुम? मुन्नी बोली।

क्या करोगी, जरा बताओ तो? अच्छा चलो पहले मुझसे आरम्भ करो। मैंने बीच में टांग अड़ा दी।

जैसी तुम्हारी इच्छा, कपड़े उतार दो। हम भी उतारती हैं।

हम तीनों ने अपने अपने कपड़े उतार दिये। उन दोनों की फ़िगर देख कर मुझे नशा सा आ गया। वे दोनों भी मेरे सशक्त शरीर को देख कर मुग्ध थी। मेरा लण्ड जो किसी अनजान सुख की बाट जोह रहा था, सख्त हो कर दोनों को सलामी दे रहा था। एकाएक वो दोनों मुझसे लिपट गई और मुझे चूमने चाटने लगी। मैं जैसे मदहोश होने लगा। वो मेरे लण्ड को पकड़ कर आनदित हो रही थी। स्त्री स्पर्श लण्ड पर मुझे भी आनन्दित कर रहा था।

अब इस मेज़ पर उकड़ू बैठ जाओ।

मैं उछल कर मेज पर चढ़ गया और उकड़ू बैठ गया। मुन्नी और राधा ने मेरे चूतड़ो को सहलाना आरम्भ कर दिया। मुन्नी तो धीरे से मेरे सामने आ गई और मेरे लण्ड को हिलाने लगी, मेरी गोलियाँ हाथ से मलने लगी।

श्…श्… बस बैठे रहो, जो करना है, हमें करना है।

उनकी इस हरकत से मेरा लण्ड फ़ूल कर और सख्त हो गया। राधा की अंगुलियाँ मेरी गाण्ड के छेद पर गुदगुदा रही थी। फिर उसने झुक कर मेरे गाण्ड के भूरे फ़ूल को चाट लिया। मेरे शरीर में एक ठण्डी लहर सी चलने लगी। उसकी जीभ छेद को चीरना चाह रही थी। बार बार जीभ से वो मेरी गाण्ड के छेद को गुदगुदा रही थी। मैं आनन्द से लहरा रहा था। मुन्नी ने मेरी गोलियाँ अपने मुख में भर ली और मुख में हौले से दबाने लगी। मेरा लौड़ा तन कर मेरे पेट से लग गया था और उसकी आंखो के मध्य था। तभी मुन्नी ने मेरा उफ़नता हुआ लण्ड अपने मुख में ले लिया। और उसे दांतों से काटने और चूसने लगी।

वहीं राधा ने मेरी गाण्ड में तेल चुपड़ दिया और अब उसकी अंगुली गाण्ड में अन्दर उतरने लगी। मुझे एक झटका सा लगा पर तेल के कारण अंगुली गाण्ड में समा गई। आह्ह, ऐसा आनन्द तो चोदने में भी नहीं आता होगा। अब तो उसकी अंगुली तेजी से अन्दर बाहर होकर मुझे आनन्दित कर रही थी। मेरे लण्ड को चूसने के कारण और गाण्ड में अंगुली के कारण बून्द बून्द करने पानी चूने लगा था। तभी आह्ह यह क्या हुआ? कुछ भारी सा कड़ा सा गाण्ड में घुसने लगा।

संजू, आधा इन्च वाली मोमबत्ती है, कुछ तकलीफ़ नहीं होगी।

और वो मोमबत्ती गाण्ड में घुस गई। हाँ, पतली थी, कोई तकलीफ़ नहीं हुई, बल्कि आनन्द ही आया। धीरे धीरे वो मोमबती अन्दर बाहर चलती हुई मुझे महसूस हुई कि वो बहुत भीतर तक चली गई है। अब और अन्दर, और अन्दर, और ये लो पूरी घुस गई।

सन्जू, मोमबत्ती तो पूरी भीतर चली गई, कितना ले लेते हो आखिर?

राधा की खनकती हंसी आई। अब पूरी बाहर निकालती और पूरी की पूरी अन्दर घुसेड़ देती। मैं आनन्द के मारे तड़पने लगा। मेरा वीर्य छूटने को हो रहा था। मुन्नी का मुख तेजी से मेरे लण्ड को चूस रहा था। उसके बाल उलझ कर चेहरे पर आ गये थे। मेरा निचला भाग आनन्द से भर कर बुरी तरह से हिल रहा था। मेरा वीर्य बस निकला निकला ही था। मेरे चेहरे का तनाव देख कर मेरी प्यारी दीदी ने मेरा लौड़ा पकड़ कर जो जोर से दबा कर मुठ मारा कि मेरा माल बाहर उछल कर निकल पड़ा। पहले से तैयार मेरी बहना में अपना मुख पूरा खोल दिया। पर फिर भी दो चार बूंदें इधर उधर छिटक ही गई। मेरा ढेर सारा वीर्य मुन्नी के मुख में था। राधा भी भाग कर मुन्नी से लिपट गई और अपने मुख से मुन्नी का मुख जोड़ दिया। दोनों ने मेरा थोड़ा थोड़ा सा वीर्य पी लिया।

यह कहानी आप decodr.ru पर पढ़ रहे है ।

मैं अब मेज से उतर गया। अब मुन्नी झट से मेज पर चढ़ गई। मैं उसके सामने आ गया और उसके अंगों को सहलाने और गुदगुदाने लगा। उसे असीम सुख की अनुभूति होने लगी। फिर मैंने उसके मम्मे खूब चूसे, फिर उसकी चूत को चाट चाट कर उसे बेहाल कर दिया। पीछे से राधा उसकी गाण्ड में मोमबत्ती पेल रही थी। कुछ ही देर में मुन्नी झड़ गई। अब यही हाल राधा का भी हुआ। वो भी असीम सुख पा कर सन्तुष्ट हो गई थी।

पर इसी बीच मेरा लण्ड फिर से एक बार और कठोर हो कर फ़ड़फ़ड़ा रहा था। पर दोनों को सन्तुष्ट जान कर मैंने अपनी बेसब्री दबा ली। हमने अब नंगे ही बैठे बैठे ठण्डा पिया और और अपने सोने के कमरे में चले आये। जीरो पावर का बल्ब जला दिया और जिसको जहाँ अच्छा लगा नीचे गद्दे पर नंगे ही पसर गये। मेरी बैचेनी जागी हुई थी, मुझे नींद नहीं आ रही थी। बार बार मुन्नी और राधा की चूतें नजर आ रही थी। आह कैसी रस भरी जवान चूतें थी… काश मैं जी भर कर उन्हें चोद पाता।

कुछ ही देर में मुझे मुन्नी की बड़ी बड़ी आंखें अपनी ओर घूरती दिखाई दी। मेरा दिल मचल उठा। भाई बहन का निगाहों-निगाहों में इशारा हुआ। हम दोनों धीरे धीरे से लुढ़कते हुये एक दूसरे के समीप आ गये। फिर धीरे से मुन्नी मेरी बाहों में समा गई। मुझे पता था कि वो चोदने तो नहीं देगी। चलो गाण्ड मारने की ही कोशिश कर लूँ।

मैंने उसके होंठ अपने होंठों में दबा लिये। मेरे लण्ड में मीठेपन की खुमारी चढ़ने लगी। वो मुन्नी के कूल्हे के आस-पास ठोकर मारने लगा। तभी मुन्नी कसमसा कर उल्टी लेट गई। साफ़ इशारा था कि उसकी गाण्ड मारनी है। स्त्री बदन को भोगने की लालसा बढ़ने लगी।मैंने उसके नरम चूतड़ों पर अपना लण्ड गड़ा दिया। मोमबत्ती से उसकी गाण्ड खुल सी गई थी। थोड़ा सा जोर मारने पर लण्ड दीदी की गाण्ड में घुस गया। मेरी आनन्द की कोई सीमा नहीं थी। मैं तो जैसे हवा में उड़ा जा रहा था। उसकी गाण्ड सरलता से चोद रहा था।

अचानक मुझे शैतानियत सूझी। मैंने अपना लौड़ा बाहर निकाल लिया। वो अपनी गाण्ड और ऊपर करके लण्ड लेने की कोशिश करने लगी थी। मैंने मौका पाते ही उसकी रस से चुदी हुई चूत में अपना लण्ड घुसा दिया। वो आनन्द से सरोबार हो गई। चूत का आनन्द ही अपरम्पार होता है। मुझे भी गरम गरम चूत का सुहाना आनन्द महसूस हुआ। उसे गहराई तक लौड़ा घुसा कर चोदने लगा। मुन्नी ने चूत चुदाई का विरोध भी नहीं किया। शायद उसकी चूत भी लण्ड मांग रही थी।

मस्ती में दीदी चीखने लगी। इसी चीखने चिल्लाने से मुझे नहीं मालूम था कि राधा मेरे पास कब आ गई थी। उसका हाथ मेरी पीठ पर पड़ा तो चुदाई के साथ एक सुहाना सा अहसास हुआ। मैंने वासनायुक्त नजरों से राधा को देखा तो वो मुस्करा उठी। तभी एक आनन्द भरा अहसास और हुआ। मेरी गाण्ड में राधा ने मोमबत्ती घुसेड़ दी थी। मैं थोड़ा सा रुका, तब राधा ने वो पूरी मोमबती मेरी गाण्ड में घुसा दी। अब मैं दीदी को चोदता भी जा रहा था और गाण्ड में मोमबत्ती की चुदाई का आनन्द भी ले रहा था। तभी मुन्नी चीखती हुई झड़ गई। मैंने अपना लण्ड बाहर निकाल लिया। लौड़ा बेहाल हो रहा था। अब राधा दीदी के पास ही अपने दोनों पांव उठा कर लेट गई।

मेरी प्यारी राधा !

मेरे संजू…

और मैं उसकी दोनों टांगों के मध्य सेट हो गया।

आई लव यू राधा …

और राधा के मुख से एक मीठी सी आह निकल गई। मेरा सुपाड़ा राधा की चूत में घुस पड़ा था। पास में मेरी बहना बार बार मुझे चूम रही थी।

मेरे भैया, मेरी जान … तुमने तो भाई बहन के रिश्ते को धागे से नहीं लण्ड से बांध दिया है। ये रिश्ता तो जान से भी प्यारा है। ये तो शादी के बाद भी जिंदगी भर चलेगा। राखी के दिन भैया मुझे चोद चोद कर इस रिश्ते को और भी पक्का कर देना।

राधा भी भाव में बह कर बोली- चोदो मेरे राजा। मैं शादी के बाद भी तुम्हारी प्रेमिका रहूँगी। शादी तो प्यार का अन्त है। मैं तो तुमसे शादी नहीं करूंगी, बस प्यार से चुदवाऊँगी।

आह, मेरी दोनों प्यारी प्यारी परियां, मैं जिन्दगी भर दोनों का साथ दूंगा।

कसमे-वादों के साथ चुदाई का मस्ती भरा समां हमे स्वर्ग की सैर करा रहा था। मुन्नी राधा की गाण्ड में मोमबत्ती से चुदाई कर रही थी। कुछ ही देर में राधा भी झड़ने को होने लगी। वो जोर जोर से चीख पुकार करने लगी। मैंने उसकी छातियों को और जोर से मसला, मुन्नी का हाथ भी जोर से चलने लगा। तभी वो जोर से झड़ गई। मेरे हाथ को अपने मम्मे से हटाने लगी। दूसरे हाथ से गाण्ड से मोमबत्ती खींचने का प्रयत्न करने लगी। वो ढीली पड़ती गई। अब वो निश्चल सी होकर शान्त पड़ गई थी।

दीदी ने मुझे जोर से धक्का दिया और बड़े प्यार मुझे चूमते हुये मोमबत्ती को मेरी गाण्ड में घुसा दी। फिर मेरे तड़पते हुये लण्ड को हाथों से मरोड़ना और मुठ मारना आरम्भ कर दिया। मेरा सारा रस मेरे मूत्र नली में भर सा गया।

अरे दीदी, मेरा तो निकला … आह रे निकल गया… मैं मर गया।

दीदी ने अपना मुख मेरे लण्ड पर लगा दिया और इन्तजार करने लगी। मुठ पर मुठ मारती गई और आह्ह्ह मेरी प्यारी बहना ने मुझे निचोड़ कर रख दिया। मेरा लण्ड में से वीर्य लावा की भांति उगलने लगा। दीदी एक अभ्यस्त खिलाड़ी की भांति उसे स्वाद ले ले कर गटकने लगी। मैं निढाल हो कर राधा से लिपट कर लेट गया और तीनों नींद की गहरी दुनिया में खोते चले गये।

दूसरे दिन मैं सोच रहा था कि दोनों तो चुदी चुदाई है। ना झिल्ली टूटी, ना गाण्ड मराने में कोई तकलीफ़ हुई। उल्टे प्रथम चुदाई और गाण्ड मराई तो बड़ी मस्ती से की दोनों ने। जब रहा नहीं गया तो मैंने पूछ ही लिया- दीदी, तुम तो एक नम्बर की चुदक्कड़ निकली, और वो राधा, कितनी मस्ती से चुदा रही थी।

अब भैया आपसे क्या छिपाना, हम ट्यूशन का बहाना करके कभी राहुल तो कभी विकास से खूब चुदती थी और गाण्ड भी मराती थी। पर कसम से, अब तुम मिल गये हो हम कहीं नहीं जायेंगी।

पर विकास और राहुल तो कॉलेज में तुम दोनों की तरफ़ देखता भी नहीं है।

हाँ, हम कॉलेज में अनजाने बन जाते है ताकि किसी को शक ना हो।

साली, शैतान, बड़ी तेज खोपड़ी हो, मुझे भी ऐसा चक्कर में डाला कि अब तो निकलने को भी दिल नहीं करता है।

हम तीनों बहुत खुश थे। हमारा यही रिश्ता तीसरे साल तक चला। फिर बी ए करने के बाद सभी जुदा हो गये। पर यादों की एक टीस रह गई। राधा तो शादी के बाद भी मुन्नी के साथ मिलकर मेरे साथ कई बार चुदाई करवाती ही रही। मुन्नी दीदी की शादी के बाद तो मैं आज तक उसका बाजा बजाता हूँ।

जो हण्टर


Online porn video at mobile phone


hotsexstory"oriya sex story""kamukta hot""hindi sex story new""hindi story hot""bhabhi sex story""sex storys""sex story real""maa ki chudai ki kahani""hindi chudai kahaniya""bur ki chudai ki kahani""sex story desi""sex kahani""antarvasna gay story"indainsex"indian sex storied""mast sex kahani""sexi hot kahani""hinde sexy storey""apni sagi behan ko choda""hindisex stories""hindi sexi storise""aunty ki chut""antar vasana""aunty ki chudai hindi story""free sex stories""kamukata sex stori""chodan ki kahani""sexy srory hindi""mother sex stories""meri bahan ki chudai""desi sex story hindi""rishton me chudai""brother sister sex story""hendi sexy story""mom and son sex stories""sex stori in hindi""hot desi kahani""chut ki malish""hot gay sex stories""चुदाई की कहानियां""sexy story mom""chut land ki kahani hindi mai""free sex stories""devar bhabi sex""mom sex story""incest stories in hindi""indian sex stories""indian hot sex story""india sex kahani""hinde sex story""new sex story in hindi"sexyhindistory"rajasthani sexy kahani""desi sex kahaniya""sex ki gandi kahani"kumkta"chodan kahani""ladki ki chudai ki kahani""amma sex stories""boob sucking stories""hot sex story""aunty ki gaand""hot sexstory""hindi sex story in hindi""bhaiya ne gand mari""true sex story in hindi""hot hindi sex stories""hindi sex stores""hindi sex stories""anni sex stories""sx stories""sexxy story""hindi sex kahani hindi""sex kahani and photo""saxy kahni""hindi sexi stories""hindi sexy store com""hindi jabardasti sex story""kuwari chut ki chudai"sexstorieshindi"mom son sex stories""maa chudai story""sexy indian stories"