प्रीत चुदी चूतनिवास से-2

(Preet Ki Bur Chudi Chootniwas se- Part 2)

मैं प्रीत की सुगंध का आनन्द लूट ही रहा था कि कम्बल के अन्दर से रानी की आवाज आई- आ जा चोदनाथ अब बिस्तर के पास आजा… कम्बल के नीचे मैं बिल्कुल नंगी हूँ… अब खोल ले पट्टी…
दीपक ने झट से आकर रानी का दुपट्टा खोल के मेरी आंखें आज़ाद कर दीं।

देखा तो बिस्तर पर कम्बल नीचे से लेकर ऊपर तकिये तक फैला हुआ था और तकिये पर रानी के सिर्फ बाल दिख रहे थे। मैं सरक के बिस्तर के नज़दीक रानी के पैरों की तरफ बैठ गया।

मैंने हल्के से कम्बल को थोड़ा सा हटाया, रानी के पांव खुल गए।
सबसे पहले मेरी नज़र तलवों पर पड़ी… यार ! बेटीचोद दिल बाग़ बाग़ हो गया। मुलायम और हल्के गुलाबी से नर्म नर्म तलवे!
दूध से गोरे, रेशम से चिकने और त्रुटिहीन!
मैंने पूरे पांवों को निहारा तो बहनचोद मन प्रसन्न हो गया… बहुत ही हसीन पैर थे रानी के, साफ सुथरे भली भांति तराशे हुए नाख़ून जिनमें हाथों की नेल पोलिश वाले शेड की बैंगनी रंग की नेल पोलिश लगाई हुई थी, अंगूठा साथ वाली उंगली से ज़रा सा छोटा!

मैंने मुंह घुमा के दीपक से कहा- सुन… रूम सर्विस फोन करके तीन प्लेट रसगुल्ले और तीन पेप्सी या कोक आर्डर दे दे… रानी की बुर का पर्दा फाड़ने के बाद मुंह मीठा करेंगे न!
दीपक ने जी सर जी कह के आर्डर कर दिया तो मैंने वापिस अपना ध्यान प्रीत रानी के बदन पर केंद्रित किया।

अब मैंने उसके पांव सहलाते हुए सबसे पहले तलवे चाटने शुरू किये। पैरों की उंगलियों के नीचे तलवे पर जो उभार होते है उनको मुंह में लेकर चूसा, मलाई समान गोरी चिट्टी, मुलायम मुलायम एड़ियों पर मज़े से चटखारे लेते हुए जीभ फिराई।
जितनी एड़ी मुंह में घुस सकती थी, उतनी मुंह में लेकर चूसी। टखनों को चाटा, बारी बारी से दोनों पैरों के अंगूठे और फिर एक एक कर के आठों उंगलियाँ बड़े आराम से चूसी जैसे बच्चे लॉलीपॉप चूसते हैं।

बहुत ही नर्म नर्म रेशमी पांव थे मादरचोद प्रीत रानी के! चाट चाट के दोनों पैर गीले कर दिए।
रानी का हाल ही न पूछो, आनन्द की मस्ती में डूबी बिलबिला रही थी, कराह रही थी और लंबी लंबी आहें भर रही थी। साथ साथ मैं रानी के पांवों की तारीफ भी कर रहा था जिससे रानी की मस्ती और बढ़ती जा रही थी, रानी इधर उधर अपना बदन हिला हिला के अपनी कामोत्तेजना से जूझ रही थी।

हर थोड़ी देर के बाद प्रीत रानी के शरीर में एक कम्पन सा दौड़ता जो मुझे अपनी जीभ और हाथों में थरथराहट के रूप में अनुभव होता!
रानी के पांवों का स्वाद चख के मैंने कम्बल को और सरकाया तो रानी की नंगी टाँगें उजागर हो गईं।

बहनचोद, रानी की मस्त टाँगें देखकर तो बदन चुदास की गर्मी से बिफर उठा। लौड़े में लगा जैसे बिजली का करंट लग गया हो। टट्टों में भराव महसूस होने लगा, हरामज़ादी की टाँगें बहुत ही ज़्यादा हसीन थीं, यूँ लगता था कि किसी कुशल मूर्तिकार ने उनको बड़ी फुरसत में, बड़े मस्त मूड में गढ़ा हो! बहुत ही बारीक बारीक रोएं थें जो काफी ध्यानपूर्वक देखने से की दिखाई पड़ते थे। एकदम मलाई की बनी हुई टाँगें थीं मादरचोद रांड की।

मैंने दीवानों की तरह टांगों पर चुम्मियों की बौछार कर दी, गीली गीली और चुदास की गर्मी से तपती हुई चुम्मियाँ! रानी भी बेकाबू हो गई, टाँगें इधर उधर छटपटाने लगीं, कम्बल के नीचे से ‘सी सी सी… उई माँ… आह आह.. हाय मेरे रब्बा.. मर गई..’ की पुकार आने लगी।

मैंने रानी की टाँगें ऊपर करके उसके घुटनों के पीछे के भाग पर जो जीभ फिराई तो रानी ने कसमसाते हुए कम्बल उतार फेंका और चिल्लाई- हाय हाय राजे साले चोदनाथ… बहनचोद मार डालेगा क्या… तेरी जीभ बड़ी ज़ालिम है हरामी हाय हाय हाय!

मैंने तुरंत जीभ हटा कर रानी के बदन की तरफ नज़रें लगाईं, बहनचोद रानी के चूचुक देख कर तो कमबख्त दिल की धड़कन रुकने को हो गई।
प्रीत रानी के चूचों का तो कहना ही क्या !!! ऐसे गज़ब के चूचे मैंने तो कभी नहीं देखे थे। मेरा अंदाज़ गलत था, उसके चूचों के साइज़ के बारे में, कपड़े पहने हुए प्रीत रानी को जब देखा था तो मेरा अंदाज़ था कि रानी के चूचुक 38C के होंगे लेकिन अब मुझे लगने लगा कि ये मतवाले चूचे 40D होने चाहिये, और इस चूतनिवास की गांड फाड़े डाल रहे थे।

वे आलीशान चूचियाँ ब्रा की क़ैद से आज़ादी पाकर पर्वत के दो उन्नत शिखरों की भांति सीधी खड़ी थीं, ओओ… ओहहह!! यार चूचे हों तो प्रीत रानी जैसे हों।
उसके चूचे देख के मेरी सांस ऊपर की ऊपर और नीचे की नीचे ही रह गई। गला सूख गया और माथे पर पसीना छलक उठा, बदन एकदम से मानो चार पांच डिग्री गर्म हो गया। मदमस्त चिकनी और गोरी मक्खन सी चूचियाँ! खूब कसे हुए, उठे हुए गहरे भूरे निप्पल और हर निप्पल का एक एक बड़ा सा दायरा जिसका रंग हल्का भूरा!

मेरे सब्र का बाँध टूट गया, मैं एक वहशी दरिंदे की तरह प्रीत रानी के चूचुक पर टूट पड़ा। एक चूचा मुंह में लेकर दूसरे को ज़ोर से दबाया।
रानी की चुदास की गर्मी से चूचे ऐंठे पड़े थे, चूची की घुंडी अपने अंगूठे और उंगली के बीच दबा के ज़ोर से रगड़ते हुए उमेठ डाली और उसके बाद चूचे में अपनी पांचों उंगलियाँ गाड़ के ज़ोर ज़ोर से चूचा दबाना शुरू किया, दूसरा उरोज मैं बेसाख्ता चूसे जा रहा था, हुम्म हुम्म्म हुम्म्म हुम्म्म करते हुआ मैं चूचे को चूस रहा था, उस पर गीली जीभ फिरा रहा था और पूरा का पूरा स्तन मुंह में लेने की असफल चेष्टा कर रहा था।

कुछ देर तक एक चूचा चूसने के बाद मैंने दूसरा वाला चूचा मुंह में लिया और पहले वाले का मर्दन करने लगा। रानी के मुंह से फटी फटी आवाज़ निकली- आह आह राजे मादरचोद… सी सी सी… और ज़ोर से मसल मम्मे… अहा उम्म्ह… अहह… हय… याह… अहा अहा… बहनचोद बहुत सख्त हो रहे हैं… और ज़ोर से चोदनाथ और ज़ोर से… दांत गाड़ दे कुत्ते… निप्पल चीर डाल साले… अहा अहा अहा!

रानी की इच्छानुसार मैंने दांत कस के चूची में गाड़ दिए और दूसरी चूची को ज़ोर से मसला, रानी मस्त के कुलकुलाई- आह आह राजे साले चोदनाथ… और ज़ोर से काट.. बहनचोद… अहा अहा अहा अहा…
मैंने अब चूची बदल के एक चूची को मसला और दूसरी में ज़ोर से काटा।
जैसे ही रानी कराहते हुए आहें भरीं, मैंने झट से अपना चेहरा प्रीत रानी की साटिन सी चिकनी चूचियों पर लगा के, हौले हौले रगड़ के उनके स्पर्श का आनन्द लिया- आहा… आहा…

बहनचोद चूचुक कामवासना के भयंकर उत्तेजना से ग्रस्त होकर तन्नाए हुए तो थे ही, खूब गर्म भी हो रहे थे।
इसके बाद तो मैंने रानी के चूचुक से जो खेला है तो पूछो ही मत… बार बार मैं प्रीत रानी के मम्मों को चूसता, चाटता, फिर कुचल कुचल के मसलता, तो कभी ज़ोरों से काट लेता या निप्पल को च्यूंटी में भर के उमेठ देता।

रानी भी काम विहल होकर सीत्कार पर सीत्कार ले रही थी, उसने मेरे बाल जकड़ रखे थे और जब ज़ोर से मस्ती चढ़ जाती तो वो उन्हें खींचती या नाख़ून मेरी पीठ में गाड़ देती।
वो चुदास में बौरा कर छटपटा रही थी, कभी टाँगें इधर करती तो कभी उधर या तेज़ तेज़ चूतड़ उछालती- हाय हाय चोदनाथ माँ के लौड़े… आहा… आहा… बहनचोद बड़ा मजा आ रहा है जानू… आहा… आहा… जान निकाल दे मेरी कमीने… ओए रब्बा आज न बचने वाली मैं… राजे साले हरामी… अब चोद भी दे न राजे। उईई ईईई… बहनचोद निप्पल उखाड़ेगा क्या… उईईई ईईईई… ईईईई… प्लीज़ चोदनाथ यार अब बर्दाश्त नहीं होता… आहा आहा आहा!

मैंने हाथ नीचे करके रानी की बुर पर छुआया, बुर तो साली रस से लबालब भरी हुई थी, यहां तक कि जूस रिस रिस के बाहर निकल रहा था और फलस्वरूप रानी की बुर के दोनों तरफ जांघें खूब गीली हो गई थीं।
ढेर सारा जूस मेरे हाथ पर आ गया, मैंने तुरंत उस नशेदार ज़ायकेदार रस को चाट लिया जिससे मेरी उत्तेजना यूँ भड़क उठी जैसे जलती आग में घी डाल दिया जाए।

इधर प्रीत रानी व्याकुल हुई बार बार चुदाई की गुहार लगा रही थी, चुदास अब उसके सब्र का बाँध तोड़ चुकी थी। इधर उसकी बुर के मादक जूस को चाट के मैं भी बेकाबू हो गया था।
अब समय आ गया था कि रानी की बुर का उद्घाटन कर दिया जाए।

मैंने भर्राई हुई आवाज़ में कहा- रानी… चोदता हूँ जान-ए-मन… ज़रा इस कुंवारी बुर को चूसने का लुत्फ़ तो उठा लूँ… बस ज़रा सा सब्र और रख रानी… बहुत कम टाइम लगाऊंगा… बस अनचुदी बुर चूसनी है… बाद में तो ये कुंवारी नहीं न रहेगी!

इसके पहले की रानी कोई प्रतिक्रिया देती, मैंने उसका मुंह चूम लिया, फट से नीचे सरक के रानी की टाँगें चौड़ी की और मुंह रिसरिसाती हुई कच्ची बुर से लगा दिया।
कच्ची कली की बुर चूसने का क्या आनन्द होता है, यह तो वही बंदा समझ सकता है जिसने कभी ये नशा लिया हो। इसका शब्दों में वर्णन करना कठिन है।

बस ये समझ लीजिए कि चुदास का सुरूर तो सिर पर पूरी तरह से सवार था ही, ये मदमस्त बुर चूसते ही नशा कई गुना बढ़ गया। कुत्ते की भांति जीभ लपलपाते हुए मैं प्रीत रानी का बुर पान करने लगा, मेरी जीभ की टुकर टुकर से रानी भी मजा लूट रही थी, बार बार अपने नितम्ब ऊपर नीचे झुमाते हुए सिसकारियाँ भर रही थी।

मैं मचल मचल के बुर का जूस चूस रहा था और गहरी गहरी साँसें लेकर इस लंड की प्यासी प्रीत रानी की बुर की सुगंध अपने नथुनों में भर रहा था- आआह… आआआह… आआआह… आआह! हे भगवान! इस स्वाद का, इस नशे का और इस मादक गंध का कोई तोड़ नहीं!

प्रीत रानी की व्याकुलता उसको बेहाल किये थी, वो बार बार हाथ जोड़ के चुदने की दुहाई दे रही थी।
कुछ समय रानी की बुर का लुत्फ़ उठाकर मैंने उसकी बेकरारी दूर करने का तय कर लिया।

मैं रानी को छोड़ के उठा और अपने सूटकेस में एक पायजेब का जोड़ा निकाला, जो मैं अक्सर रानियों को पहली बार चुदाई करते हुए तोहफे के रूप में दिया करता हूँ। पायजेब पहनाने के लिए मैंने रानी का अति सुन्दर पांव को प्यार से सहलाते हुए उठाया और कई चुम्मियाँ लेते हुए पायजेब पहना दी।

प्रीत रानी ने सिर उठाकर देखना चाहा कि मैं क्या कर रहा हूँ।
मैंने कहा- रानी, यह तेरी बुर दिखाई का तोहफा है… कुछ ख़ास नहीं पायजेब का सेट है… तेरे हसीन पैरों की शोभा बढ़ाने के लिए! जब जब भी तू चुदाई किया करेगी, इस पायल की झुन झुन झुन झुन तुझे मेरी याद दिलाया करेगी.. तेरे पांवों की सुंदरता के सामने ये बहुत छोटी सी चीज़ है लेकिन मेरा दिल कर रहा था कि अपनी रानी के पैरों में ये पहनाऊं!

रानी ने तड़प के भिंची भिंची आवाज़ में कहा- चोदनाथ, बहुत ही सुन्दर पायल है राजा… तू इतना प्यार करके किसी दिन मेरे प्राण ही हर लेगा कमीने… क्यों लाया इतनी महँगी सोने की पायल… मेरे लिए तो तेरा लंड ही सबसे बड़ा तोहफा था, आजा मेरी बाँहों में राजा, तुझको थैंक्स की मस्त चुम्मी दूंगी!

मैं जम्प लगा के बिस्तर पर चढ़ गया और रानी के फूल से नाज़ुक शरीर को अपने आगोश में भर लिया।

कुंवारी बुर चोदन की कहानी जारी रहेगी।


Online porn video at mobile phone


"saxy hindi story""chudai ki kahaniyan""indian sec stories""sex hindi kahani com"mamikochodagropsexwww.kamukata.com"सेक्स स्टोरी""kamukta com hindi kahani""bhai bahen sex story""indian bhabhi sex stories""devar bhabhi ki sexy story""mastram ki sex kahaniya""chodne ki kahani with photo""सैकस कहानी""tai ki chudai""beti ki choot""mastram chudai kahani""gay antarvasna"hotsexstory"sexy kahania hindi""bhanji ki chudai""chodan story""kamwali sex""chut sex"sexstory"hot hindi sex stories""sexy kahani with photo""sax khani hindi""story sex ki""indian aunty sex stories""hindi sex stories with pics""office sex stories""indian chudai ki kahani""hot chudai story in hindi""induan sex stories""hiñdi sex story""gand mari kahani""sex storie""indain sexy story""hot sexy kahani""sexy khani in hindi""hot sex story""hindi sex storey""parivar ki sex story""maa beta ki sex story""sexy stories in hindi com""sex कहानियाँ""sex in story""desi kahani 2""सेक्स की कहानियाँ""hot sexy story""devar bhabhi ki sexy story""hot sex stories hindi""imdian sex stories""wife sex stories""porn kahani"sexstories"sexy stories""desi sex kahaniya""sexy story in hindi with image""sex stories hot""hot hindi sex story""kahani sex""sasur bahu chudai""baap beti ki sexy kahani""sali ko choda"chudaikahaniwww.kamukata.com"xex story""हिन्दी सेक्स कथा""very sex story""chudai ki katha""bhabhi sex stories""xxx porn story""hindi sex storyes""antarvasna sex story""बहन की चुदाई"indiansexstoroes"indian mother son sex stories""www sexi story""hot sexy stories""teen sex stories"