माँ बेटी की साथ में चुदाई की

(Ma Beti Ki Sath Me Chudai Ki)

मैं राजेश एक कंपनी में काम करता हूँ और मेरे साथ लड़कियाँ और औरतें भी काम करती हैं. मैंने एक माँ और बेटी दोनों को एक साथ तो नहीं पर एक ही बिस्तर पर चोदा है. वो बात अलग है कि मेरी शादी के बाद दोनों अब मुझसे नहीं चुदवाती.

बात उस समय की है जब मैं किरण नाम की 38 साल की औरत के साथ नागपुर गया और एक होटल के कमरें में रुका. पता नहीं क्यूँ किरण ने दो कमरें नहीं लिएउसकी उम्र 38 थी और मेरी करीब 28लेकिन रात में जब दोनों एक ही बिस्तर पर सोए तो मेरा लण्ड खड़ा हो गया और मैंने उसकी बाँहों में हाथ डालते हुए बोला- आ जाओ!

वो बोली सो जाओ चुपचाप! मैं यहाँ यह सब नहीं करने आई हूँमेरे तीन बच्‍च्‍ेा हैं.

मैंने बोला- पता है! और यह भी पता है कि तुम्हारा पति तुम्हें नहीं चोदता किसी और औरत के साथ रहता है. आज की रात रंगीन बना लो क्योंकि अगर किसी को यह पता चला कि हम एक ही बिस्तर पर सोये थे तो वह यही मानेगा कि तुम चुदी हो मुझसे! इससे अच्छा है कि चुदवा लो!

वो नहीं मानी लेकिन मैं ऊपर चढ़ गया. उसने मुझे नीचे उतार दिया.

फिर मैंने कहा- मेरा लण्ड खड़ा हो गया हैइसका क्या करूँ?

बोली- बाथरूम में जाकर निकाल कर सो जाओ.

लेकिन मैंने सोचा- अगर बगल में औरत है और लण्ड खड़ा है और उसकी चुदाई नहीं की तो मेरा मर्द होना बेकार!

थोड़ी देर बाद फिर उसके ऊपर चढ़ गया. वो इस हमले के लिए तैयार नहीं थी मैंने उसकी सलवार का नाड़ा खोल कर उसकी चूत में उंगली डाल दी.

वो तड़प उठी और उसने समर्पण कर दिया.

मैंने भी फटाफट अपना लण्ड उसकी चूत में डाला लेकिन लगभग तुरंत ही झड़ गया क्योंकि यह सब काफी देर से चल रहा था.

खैर उस रात मैं सो गया. फिर दूसरे दिन दोपहर में उसको पूछा- जब चुदना ही था तो इतने नखरे क्यूँ किये?

बोली- मेरे पति मुझे दस साल पहले छोड़ चुके हैंतब रोज चुदती थीफिर चुदाई बंद हो गई क्यूंकि वो दूसरी के पास चला गया. न चुदने का दर्द तुम नहीं समझ सकते.

खैर मेरे और उसके बीच में तय हुआ कि जब तक मेरी शादी नहीं होगी उसको चोदता रहूँगा.

उस दोपहर मैंने बोला- अभी चोदूँगा नहींतुम मेरा लण्ड चूस कर और हाथ से हिला कर झाड़ दो.

उस दिन के बाद मैंने उसको दर्जनों बार चोदा और हर तरह से चोदाब्लू फिल्म दिखा कर बिल्कुल वैसे ही चोदावो एकदम तजुर्बेकार थीगाण्ड भी मरवाती थी.

मेरा लौड़ा मुँह में लेकर ऐसे चूसती थी जैसे बबल गम हो.

यह सब करीब दो महीने चलाजब मन करता उसको किसी होटल ले जाता और चोदता. वो भी मुझे बहुत मानती थी और अपनी झांटें हमेशा मेरे लिए साफ रखती थी और जब भी मौका मिलता मुझसे चुदवा लेती.

वो पंजाबी थी और पंजाबी की शादी थोड़ा जल्दी होती है इसलिए उसकी सबसे बड़ी लड़की की उम्र भी करीब 18 हो गई थीवो भी साली एक नंबर की माल थी. मुझे पता ही नहीं चला वो कब सेट हो गई. उसके घर अकसर आना जाना होता थामाँ सोचती थी कि मैं उसके लिए आया हूँ और वो सोचती थी कि उसके लिए!

उसकी माँ को रत्ती भर भी शक नहीं था.

हम लोग एक बार किसी खास कार्यक्रम में गएतब तक कुछ खुलापन नहीं थालेकिन वो ऐसे चूची चिपका कर बैठी कि मेरी पीठ को पता चल गया कि उसका ब्रा का साइज़ वही है जो उसको माँ का!

जहाँ गए थेवहाँ कार्यक्रम शुरू होने में देर थी इसलिए हम दोनों एक पार्क में चले गए. घूमते-घूमते उसके हाथ को पकड़ा और कोई आपत्ति नहीं हुई तो मेरी हिम्मत बढ़ी और फिर में बाद में एक रेस्टोरेंट ले गया जहाँ उसने अपना सर मेरा कंधे पर रख लिया तो मैं आसमान में उड़ने लगा कि चलो एक कुंवारी चूत का भी इन्तजाम हो गया!

लेकिन बाद में पता चला कि वो साली 18 की उम्र में भी चुदी हुई निकली. रेस्टोरेंट में कुछ खास नहीं हो पायाफिर एक साइबर कैफे लेकर गया और केबिन बंद करने के बाद सबसे पहले मैंने उसके टॉप तो उठाकर चूचियाँ चूसी और बोला- आई लव यू!

वो शायद इसी की इन्तजार में थीउसने मुझे अपने बदन से चिपका लिया.

तभी उसकी मम्मी का फ़ोन मेरे पास आ गया मैंने अलग जाकर उसको बोला- आ रहा हूँ!

उसकी मम्मी ने चुदने की इच्‍छा जाहिर की और उसको चोदना पड़ा. खैर वो दिन चला गया और फिर सिर्फ 4-5 दिन ही बीते थे कि उसकी मम्मी बाहर चली गई तो उसने मुझे फ़ोन किया- अगर मेरे साथ समय बिताना चाहते हो तो यहाँ चले आओ!

वो उस समय बारहवीं में पढ़ रही थीखैर मैं पहुँचा उसकी बताई हुई जगह पर!

वो अपनी एक सहेली के यहाँ जाकर अपनी यूनीफार्म बदल कर सेक्सी से कपड़े पहन कर आई थीमैं उसको मूवी लेकर गया जहाँ मैंने मौका देखकर उसकी चूत में ऊँगली डाल दी. वो तड़प उठी.

फिर एक सुनसान जगह ले जाकर उसकी चूची खूब चूसी लेकिन चुदाई का जुगाड़ नहीं बन पाया. अब मुझे उसकी मम्मी के कॉल से उलझन होने लगी क्यूंकि अगर 18 साल की चूत का इन्तजाम हो तो 38 साल वाली को कौन पूछता है.

एक दिन मेरे घर पर कोई नहीं थाउसको मैंने एक साइबर कैफे में बुलाया और ब्लू फिल्म दिखाई. फिर उसको अपने घर का पता समझा कर चला आया.

थोड़ी देर बाद उसने मेरे घर का दरवाज़ा खटखटायामैंने फटाफट उसको अपने कमरे में अन्दर किया लेकिन बाहर देखा तो एक पड़ोस के लड़के की नजर उस पर थी क्यूंकि वो बहुत खूबसूरत थी.

एक बार तो इज्जत का सोच कर सोचा कि जाने दूँलेकिन आगे कोई गर्म लड़की चुदने को तैयार हो तो उसको न चोदना बेवकूफी होगीयह सोच कर तुरन्त एक लम्बा चुम्बन लियावो पहले से गर्म थीमैंने तुरन्त पैंट खोल कर लण्ड बाहर निकाला और मेरे बिना कहे उसने चूसना शुरू कर दिया.

यह कहानी आप decodr.ru पर पढ़ रहे है ।

मैंने उसको कपड़े उतार कर नंगी किया और उसकी चूचियाँ चूसनी शुरू की.

उसने चीख कर कहा- जल्दी करो!

मैंने भी आनन-फानन अपना लण्ड उसकी चूत में लगा दिया और चार तेज झटको में पूरा लण्ड अंदर था.

वो चिपक-चिपक कर चुदवा रही थी और उसकी चूत में कोई दर्द नहीं हुआ. मुझे समझ आ गया कि खेली खाई है!

फिर कुछ धक्के मार कर मैं अलग हो गया.

उसने पूछा- टॉयलेट कहाँ है?

अपनी चूत साफ करके आई और बोली- मुझे जाना है!

मैंने उसे दूसरे दरवाजे से निकाल कर एक जगह बताई कि वहाँ पहुँचोमैं आता हूँ!

फिर मैंने साफ़ बोल दिया कि अभी मजा नहीं आया हैमुझे तुम्हें ढंग से चोदना है!

वो बोली- कभी मना किया है क्या?

उसके यह कहते ही मुझे उसकी मम्मी के शब्द याद आ गएवो भी यही बोलती थी- तुम्हें चोदने से मना किया है क्या?

मैं एक बात बताना भूल गया कि मेरी उसकी मम्मी के साथ फ़ोन पर सेक्स की बातें होती थीमैं अपने घर पर फ़ोन पर होता थावो अपने बिस्तर पर अपनी चूत में उंगली डालती और मैं अपना लण्ड पकड़ कर खूब गन्दी गन्दी बातें करते थे.

वही मैंने उसकी बेटी के साथ भी शुरू कर दिया.

एक दिन मैंने ड्रिंक किया और मेरी चुदाई की इच्छा हुईरात के करीब साढ़े दस बजे थेमैंने उसको फ़ोन किया कि मैं आ रहा हूँ तुम्हारे घर!

उसने साइड वाला गेट खोल कर अन्दर बुला लियाउस दिन उसने वही नाइटी पहनी थी जिसको पहनकर उसकी मम्मी मुझसे चुदवाती थी.

मैं नशे में था इसलिए तुरन्त उसको नीचे गिरा दिया और लण्ड निकाल कर बोला- चूस!

उसने भी बिना देर किये मेरे लण्ड को मुँह में लेकर चूसना शुरू किया. उस दिन पता नहीं मेरा लण्ड मोटा हो गया था या उसकी चूत छोटी कि चोदने में उसको बहुत मजा आया. फिर तो उसको भी फ़ोन सेक्स की आदत हो गई और जब उसकी मम्मी घर पर ही होती तो भी वो कहीं एकान्त में जाकर मुझे मिस कॉल करती और और फिर हम दोनों फ़ोन सेक्स करते.

एक दिन की बात हैहम दोनों फ़ोन सेक्स कर रहे थेउसका मन चुदने को हो गयाबोली- आ जाओ!

मैंने कहा- रात का एक बज रहा हैकैसे आ सकता हूँ?

बोली- मैं नहीं जानती! आना ही होगा!

भयंकर सर्दी के दिन थेमैंने जैकेट पहनी और चल दिया उसके घर की ओर!

फिर घर के बाहर जाकर मिस कॉल की तो उसने गेट खोला और तभी चौकीदार की सीटी की आवाज!

मुझे छुपना पड़ाफिर जब वो चला गया तो उसके नाना जग गएउसने खांसने की एक्टिंग की और बोली- खांसी आ रही हैपानी पीने उठी थी.

फिर मेरा हाथ पकड़ कर अपने बिस्तर पर ले गई.

उस बिस्तर पर उसकी छोटी बहन भी सो रही थी.

एकदम से उसने मेरी जैकेट उतारी और मुझसे चिपक गई. मैंने उसकी नाइटी खिसकाई तो देखा कि उसने पैंटी नहीं पहनी है.

मैंने पूछा- क्यूँ नहीं पहनी?

तो बोली- तुमसे बात करते समय उंगली मेरी चूत में थी!

फिर मैंने कहा- चलो दूसरे कमरे में!

बोली- नहींयहीं करो! यह कुम्भकरण हैसोती रहेगी.

मैंने बोला- नहींतुमको उस दिन जब चोदा थातब तुम बहुत चीख रही थीआज अगर चीखी तो गड़बड़ होगी.

बड़ी मुश्किल से उसको दूसरे कमरे में ला गयाजाते ही वो झपट कर मेरे सारे कपड़े उतार दिए और फिर मेरे लण्ड को लेकर चूसने लगीकभी मेरे लण्ड को वो हाथ में लेकर सहलातीकभी अपनी चूची में लगाती कभी मुँह में अन्दर तक लेकर चूसती.

सच बोलूं तो ज़िन्दगी में पहले बार इतना मजा आ रहा था.

फिर मैंने झपट कर उसको नीचे लिटाया और अपना मुँह रख दिया उसकी चूत परचूत पर हल्के-हल्के से बाल आने शुरू हो गए थेउसकी दोनों टाँगें अपने कंधे पर रख कर मैं काफी देर तक चूत चाटता रहा और वो सिसकारती रही. फिर मैंने अपना लण्ड जो चूत पर लगा कर जोर से झटका मारा और पूरा अन्दर डाल दिया. उसने नीचे से उछलना शुरू किया और मैंने ऊपर से धक्का देना!

थोड़ी देर बाद मैं झड़ गया लगभग 15 मिनट तक मैं लेटा रहा और फिर कपड़े पहनने शुरू किये तो वो मेरा लण्ड पकड़ कर बोली- अभी नहीं! और फिर ऊपर से आकर अपनी चूत को मेरे लण्ड पर रखा. लेकिन रात काफी हो चुकी थी और मैं कपड़े पहन कर चला आया.

उसके बाद कभी मौका नहीं मिलान उसकोन उसकी माँ को चोदने का.

अब उसकी सबसे छोटी बहन जो 18 की हो रही है (उस समय वो १4 की थी) पर मेरी नजर है और मुझे पता है कि उसको भी मैं किसी न किसी दिन चोदूँगा क्यूंकि वो सब की सब चुदक्‍कड़ हैं.


Online porn video at mobile phone


"hindi hot sexy stories""sax story""latest hindi chudai story""tamanna sex stories""new hindi sex"hotsexstory"indian sex hot""www sexi story""bhai behan sex story""maa beta chudai""new hot kahani""chodai ki kahani""ma beta sex story hindi""uncle ne choda""hot chachi story""sexy story latest""kamukta com sexy kahaniya""sexy chachi story""meri bahen ki chudai""hindi chudai kahaniya""desi sex kahani""beeg story""tai ki chudai""chudai story hindi""hindi chudai story""sex story new""mast chut""indian se stories""sex stories office""maa ki chudai kahani"hotsexstory"sex kahani and photo""first chudai story"xstories"read sex story""indian wife sex stories""sex story hindi language""hot sex stories""gay chudai""hot story with photo in hindi""kamukta story in hindi""baap beti sex stories""indian sex stories group""randi ki chut""hindisex katha""hindi sexy storis""sex story with images""beti ki chudai""best story porn""indian sex stores""devar bhabhi ki sexy story""gujrati sex story""baap beti ki sexy kahani hindi mai""chudai story bhai bahan""hot chudai story in hindi""sexy story in hindi with pic""bhai bahen sex story""sex story mom""hindsex story""sali ki chut""www new sexy story com""mastram ki kahaniya""sexy story in hinfi""bibi ki chudai""devar bhabhi hindi sex story""gand mari story""desi khaniya""sexy suhagrat""holi me chudai""pehli baar chudai""real sex kahani""sexy chut kahani"kamukta."behan bhai ki sexy kahani""desi sexy story""sex stor""kamukta com in hindi""indian bus sex stories"kamukta."barish me chudai""devar bhabhi ki sexy story""free sex story hindi""bhabhi ki chudai ki kahani hindi me"hotsexstory"sex storey""sexy story hindi in""hindi sexs stori""sex storiea""sex kathakal""sex story with""hindi sexey stori""baba sex story""sex story with images""hot sex stories in hindi""hindi xxx stories""sexy storu""hot sex hindi story""group sex story in hindi""new hindi sex store""hot hindi kahani"