कुंवारी बुर चुदाई की वो हसीन रात- 1

(Kunwari Bur Chudai Ki wo Hasin Raat- 1)

मैं बहुत सादा रहता था क्योंकि मेरे पास पैसे नहीं थे. मेरी एक क्लासमेट मेरी अच्छी फ्रेंड बन गई थी, शायद उसे मेरी सादगी पसंद थी. एक रात उसने मुझे अपने घर बुलाया तो …

मेरा नाम आर्यन (बदला हुआ) नाम है, मैं प्रयागराज से 100 किमी दूर रहता हूँ. मेरी उम्र 26 वर्ष है और इस समय एक अच्छी नौकरी की तलाश में हूँ. मेरी लम्बई 5 फुट 5 इंच है और रंग सांवला है.

यह सेक्स कहानी एक माह पहले की है. मेरी एक फ्रेंड शबनम (बदला हुआ नाम) ने मुझे कॉल किया. हम दोनों कुछ माह पहले एक साथ पढ़ते थे.

आपको पहले शबनम के बारे में बता दूँ. उसका फिगर एकदम माधुरी दीक्षित की तरह था. शबनम हमारे सेन्टर की सबसे हसीन लड़कियों में से एक थी. उसको देख कर अच्छे अच्छों का औजार फड़फड़ाने लगता था. वो मेरी सबसे अच्छी फ्रेंड बन गई थी, शायद उसे मेरी सादगी पर बड़ा रश्क था.

एक दिन शबनम का फोन आया. मैंने फोन उठाया- हैलो.
वो- हैलो.
मैं- हां जी कौन?
वो- आप इतना जल्दी भूल गए?
मैं- नहीं जी … भूले तो नहीं है पर थोड़ा डाउट है.
वो- हम्म … अगर नहीं भूले हैं … तो बताइये कौन हूँ?
मैं- शबनम बोल रही हो शायद!
वो- हां शबनम ही बोल रही हूँ.

मैंने पूछा- तुमको मेरा नम्बर कहां से मिला?
वो- आपको यह जानकर क्या करना है … वैसे भी जहां चाह, वहां राह निकल ही आती है.
मैं- अच्छा जी.

फिर हमारे बीच नार्मल बातें होने लगीं. उससे बात करके मुझे काफी अच्छा लगा.

अब वह हर दूसरे दिन कॉल करने लगी थी और हम लोग आधा-एक घण्टा बात करते ही थे.

इस तरह हम लोगों का बातों का सिलसिला चल पड़ा था. धीरे-धीरे वह मुझसे खुलने लगी थी. हम दोनों में काफी मजाक भी होता और पढ़ाई के टॉपिक पर डिस्कशन भी होता रहता था.

एक दिन उसने पूछा- आपकी कोई गर्लफ्रेंड है?
मैं- पहले तुम बताओ … तुम्हारा कोई ब्वॉयफ्रेंड है?
वो- नहीं … मेरा कोई ब्वॉयफ्रेंड नहीं है. अब आप बताइए … आपकी गर्लफ्रेंड है या नहीं?
मैं- नहीं, हम गरीब लोगों के पास गर्लफ्रेंड नहीं टिकती है.
वो- मतलब पहले थी?
मैं- हां … पर अब नहीं है.

फिर मैंने पूछा- हम जैसों की गर्लफ्रेंड न हो … तो कोई आश्चर्य की बात नहीं है, पर तुम जैसी सुन्दरी का कोई ब्वॉयफ्रेंड न हो … ये सुन कर बड़ा अजीब लगता है.
वो- मैं एक लड़के से प्यार करती हूँ, पर कभी उससे कहा नहीं.
मैं- क्यों नहीं कहा?
वो- डरती थी … कहीं उससे दोस्ती न टूट जाए.
मैं- तुम्हें तो कोई भी लड़का मना नहीं कर सकता है यार!

वो- पता नहीं, शायद देर हो गयी है … क्योंकि अब मेरी शादी भी तय हो चुकी है.
मैं- अच्छा जी, पर वो है कौन खुशनसीब
वो- छोड़िए भी ये सब … और बताइए.
मैं- क्या बताएं … गरीबी का दंश झेल रहे हैं और किसी अच्छी जॉब की तलाश में हैं.
वो- अच्छा जी, अगर मैं कोई हेल्प कर सकूं … तो बोलिए.
मैं- कोई अच्छी सैलरी की जॉब दिला सको … तो बताओ!
वो- नहीं यार … मेरे सम्पर्क में तो कोई ऐसा नहीं है … सॉरी.
मैं- कोई बात नहीं.

यह कहानी आप decodr.ru पर पढ़ रहे है ।

फिर उसने बाद में कॉल करने के लिए बोलकर फोन काट दिया.

दूसरे दिन उसने बोला- आपको देखने का मन कर रहा है.
मैं- यार तुम तो जानती हो, मैं नार्मल फोन चलाता हूँ, इससे वीडियो कॉल भी तो नहीं हो सकती है. मेरे भी मन बहुत करता है तुम्हें देखने को, पर कर भी क्या सकते हैं.
वो- हम्म!
फिर वो बोली- चलो न किसी दिन मिलते हैं.
मैं- कहां पर … और अगर किसी ने देख लिया, तो वह गलत ही समझेगा.
वो- हां वो तो है … पर देखते हैं.

फिर कुछ देर बाद उसने फोन काट दिया.

तीन दिन बाद उसका कॉल फिर आया- आप कहां हैं?
मैं- घर पर हूँ.
वो- अच्छा कल कहां रहेंगे?
मैं- घर पर ही … और जाएंगे कहां … पर क्यों पूछ रही हो?
वो- ठीक है … कल बताऊंगी.

जब तक मैं कुछ पूछता, उसने फोन काट दिया.

अगले दिन शाम को उसका कॉल आया- आज रात आप मेरे घर आ सकते हैं क्या?
मैं- हां आ तो सकता हूँ, पर क्या करने का इरादा है तुम्हारा?
वो- करना क्या है यार … दोनों गप्पें लड़ाएंगे.
मैं हंसते हुए- अच्छा जी … पर हमें तुम्हारे इरादे कुछ ठीक नहीं लग रहे हैं.
वो हंसते हुए बोली- ज्यादा दिमाग मत चलाइए … बस आ जाना.
मैं- अच्छा जी.
वो- तो ठीक है … मैं रात 11 बजे आपका इन्तजार करूंगी.
मैं- ओके!

फिर फोन कट गया.

शाम को मैंने खाना खाया और सबके सो जाने के बाद 10:40 पर घर से निकल गया. जब मैं उसके घर के पास पहुंचने वाला था, तो मैंने उसको फोन किया. उसने अपने घर का दरवाजा खुला हुआ रहने का बता दिया. इससे मैं सीधे उसके घर के अन्दर चला गया.

मेरे अन्दर आते ही उसने दरवाजा बन्द कर लिया और मेरा हाथ पकड़ कर सीधे अपने रूम में ले गई.

आह क्या गजब का रूम था उसका … उसके रूम की टेबल पर केक रखा था, जिस पर कैंडल लगे हुए थे.

मैंने पूछा- आज किसी का बर्थडे है क्या?
वो- हां … इस नाचीज का.
मैं- अच्छा जी, पहले क्यों नहीं बताया था?
वो- ऐसे ही.

फिर हम लोगों ने कैंडल जलाया।

बाकि कहानी अगले भाग में।



"desi sex new""bhabhi ki gand mari""kamvasna khani""desi sexy story""hot sex story in hindi""saxy story""group sex stories in hindi""desi suhagrat story"kumkta"chachi ki chudai hindi story""indian sex kahani""maa beti ki chudai""hindi sexstories""latest sex stories""hot sex hindi stories""baap beti ki sexy kahani""indian incest sex story""sexi sotri""stories hot indian""indian hot sex story""kamvasna story in hindi""sexy story hindi in""bahen ki chudai""mom and son sex story""hindi sexy khanya""aunty ki chut story""hindi sex""best story porn""saxy hinde store""hindi sexi stori""indian sex storied""chodo story""chut me land story""sexi hot story""hindi sex kahanya""baap beti ki sexy kahani""sex xxx kahani""sexy story hindhi""chachi ko jamkar choda""office sex stories""sax stori""chut me lund""sexi khani in hindi""sexi hindi story""desi indian sex stories""www hindi sexi story com""hindi sec story""sexi new story""hot sex story in hindi""makan malkin ki chudai""hindi chudai kahani photo""indian xxx stories""gangbang sex stories""सेक्स की कहानियाँ""sex kahani in hindi""chodan com""garam chut""sex stori hinde""kamukta hindi stories""suhagrat ki chudai ki kahani""jija sali chudai""latest sex story hindi""desi sex story in hindi""sex khani""desi sex hindi""office sex story""bhabi sexy story""adult hindi stories""sax stories in hindi""sex com story""hindi photo sex story""sex story bhai bahan""indian maid sex story"xstories"sexy khaniyan""sexy storey in hindi""indian sex stoties""indin sex stories"