फ़ार्म हाउस में मम्मी

(Farm House Me Mammy)

प्रेषक : विजय पण्डित

मेरे पुरखे काफ़ी सम्पत्ति छोड़ गये थे। मेरे पिता की मृत्यु छः-सात साल पहले हो चुकी थी। मेरी मम्मी और उनके मैनेजर ही सारा व्यापार सम्भालते थे। मेरा फ़ार्म-हाऊस घर से बीस बाईस किलोमीटर की दूरी पर था। उसे मैं ही सम्भालता था। फ़ार्म-हाऊस क्या था मेरी ऐशगाह था। मैं दोस्तों के साथ वहाँ पार्टियां करता था। मम्मी उस तरफ़ नहीं आती थी। मैं कॉलेज पढ़ता था … और कैसे ना कैसे मैं पास हो ही जाता था। मेरी मम्मी का घर में एक अलग ही भाग था, जहाँ पर वो अपने खास सहयोगियों के साथ काम किया करती थी।

मुझे एक दिन कॉलेज जाने से पहले मम्मी से काम पड़ा तो मैं सीधे ही उनकी तरफ़ के हिस्से में चला आया। मुझे लगा अभी वहाँ कोई नहीं है। पर मुझे कहीं से एक हंसी की आवाज सुनाई दे गई।

ओह ! तो मम्मी पिछले कमरे में हैं।

धीमी-धीमी आवाजें अब भी आ रही थी। यकायक मुझे खिड़की से किसी की एक झलक दिखाई दे गई। मेरा दिल धक से रह गया। मुझे लगा कि मुझे यह अचानक क्या दिखलाई दे गया। मैं चुपके से उस खिड़की के पास फिर चला आया। उसके थोड़े से खुले भाग से मुझे सब कुछ साफ़ साफ़ दिखाई दे गया।

मम्मी को दो मर्द आगे व पीछे से जबरदस्त तरीके से खड़े-खड़े चोद रहे थे। मम्मी दोनों के बीच नंगी खड़ी चुद रही थी। मुझे अपनी आँखों पर एकदम से विश्वास नहीं आया। पर वास्तव में मम्मी उस चुदाई का खूब आनन्द उठा रही थी।

अचानक मां की नजर मुझ पर पड़ गई।

मेरी जैसे सांसें रुक गई। मैं जल्दी से वहाँ से हट गया और दबे पांव वहाँ से बाहर निकल आया। मैं अपने कमरे में जाकर बिस्तर पर लुढ़क गया और गहरी चिन्ता में डूब गया। जाने कब मम्मी मेरे कमरे में आ गई।

“बेटा, तुने जो देखा है … किसी को बताना मत !”

मैं हड़बड़ा कर उठ बैठा और प्रश्नवाचक मुद्रा में उन्हें देखा। मां ने मुझे समझाने की कोशिश की,”प्लीज, ऐसे मत देख मुझे, मेरी जवानी में ही तेरे पापा चल बसे थे। मैं चाहती तो दूसरी शादी कर सकती थी, पर नहीं की। समय के साथ मेरा मन भटकने लगा और मैं अनचाहे रिश्तो में उलझ गई। मेरी अन्दर की जरूरतें मुझसे सही नहीं गई और वर्मा जी को मैंने हमराज बना लिया। फिर मेहता जी भी मेरे साथ हो लिये।

बेटा मुझे माफ़ कर दे…”

मैने मां की शारीरिक मांग को समझ लिया था। मैं उठ कर मां के गले लग गया।

“ओह, मम्मी, मैं आपकी बात समझ गया … मुझे आप से कोई शिकायत नहीं है… अब मैं उस तरफ़ आपको फ़ोन करके ही आऊंगा !”

मां ने मुझे चूम लिया। मेरा दिल भी हल्का हो गया। मुझे वास्तव में पाँच हजार रुपयों की आवश्यकता थी, मम्मी कहीं भी चुदाती फ़िरे मुझे इससे क्या ?

पर हाँ, चुदाई अनैतिक तरीके से मम्मी भी कराती है … तो फिर मुझे लड़कियों से दोस्ती करने से कौन रोक सकता था ? मैने मां से रुपये लिये, गाड़ी निकाली और दोस्तों के साथ फ़ार्महाऊस पहुँच गया। वहाँ दारू और मांस की पार्टी शाम तक चली।

“सुन कैलाश, अपनी क्लास में वो तीन-चार चालू लड़कियाँ हैं ना, उन्हें पटा यार… कुछ पैसे भी खर्च देंगे यार !”

“नीतू, और रेखा को तो धीरज जानता है… पैसे से तो वो आ जायेंगी !” कैलाश ने अपनी राय दी।

“अरे राहुल ! वो राखी और चन्दा !”

“अरे वो चिकनी … उसे तू ले आना … पर संजू, उनका करेंगे क्या?”

“अरे यार भांग पिला कर उन्हें खूब चोदेंगे … नशे में तो वो चुदवा भी लेंगी !”

“ठीक है ना यार… जो नहीं मानेगी तो उसे नहीं चोदेंगे और क्या …”

“चलो, सनडे को सवेरे का प्रोग्राम रखते हैं।”

सभी कैलाश, राहुल, धीरज और विवेक मेरे साथ खुशी से चल दिये। घर आकर मेरे विचार में आया कि मम्मी को ब्लैकमेल किया जाये। मम्मी भी अगर पार्टी में रहेंगी तो लड़कियाँ आसानी से आ जायेंगी।

यह कहानी आप decodr.ru पर पढ़ रहे है ।

मैंने मम्मी को अपनी योजना बताई। तो उन्होंने मुझे पहले तो बहुत डांटा। मैंने उन्हें उनकी चुदाई की बात जब याद दिलाई तो वो तैयार हो गई।

कॉलेज में मैने जब यह बताया कि मेरी मां भी आ रही है तो चारों लड़कियाँ तैयार हो गई। पर हाँ लड़कों ने आपत्ति दर्शाई। उन्हें लगा कि सामने मां होंगी तो फिर चुदा लिया लड़कियों ने !

तीन लड़कियाँ तो यह सोच कर तैयार हो गई कि चुदाई पर पैसे तो मिलेंगे। मेरी दोनों कारें सभी के घर उन्हें लेने पहुँच गई। मेरी मां को देख कर किसी के मां-बाप ने इन्कार नहीं किया।

हम कुल आठ-नौ जने हो गये थे। फ़ार्म हाऊस पहुंचते हुए हमें लगभग दिन का एक बज गया था। घर से लाये हुये कुछ खाने का सामान हमने खाला और लड़कियाँ और लड़के मिलकर पकौड़े बनाने लगे।

“अरे वो राखी कहाँ है…?”

“राहुल भी नहीं है … कुछ समझे, टांका भिड़ गया लगता है।”

“तेरा मतलब राहुल उसे चो…”

“शी… चुप… तुझे क्या है… काम कर !”

“क्या बात है … राखी की बहुत याद आ रही है … और हाँ बताओ तो वो क्या कह रहे है?” चन्दा ने तिरछी नजरों से धीरज को देखा।

लड़कियाँ धीरे धीरे पकौड़े चुरा चुरा कर खा रही थी। रेखा पकौड़े ले कर मम्मी को कमरे में खिला रही थी। कुछ ही देर में लड़कियाँ भांग के पकौड़े खा कर नशे में झूमने लगी थी। बाहर रिमझिम बरसात होने लगी थी। मौसम हमारा साथ दे रहा था। तभी धीरेज ने राखी को एक कौने में ले जा कर दबा लिया। वो दोनो वहीं गुत्थम गुत्था हो कर उसी कौने में चूमा चाटी करने लगे। इतने में मधु नशे में

बारिश में बाहर निकल गई। लॉन में हरी घास में लोटने लगी। मैने मौका देखा और चिकनी मधु के पास आ गया। मधु एक चालू लड़की थी, मुझे अपने समीप देख कर उसने मेरा हाथ पकड़ लिया। मैं उसके पास आ गया। मौका देख कर मैंने उसके उरोज दबा दिये। वो सिमट कर हंसने लगी। फिर उसने मुझे अपनी बाहों को खोल कर अपने छाती से चिपका लिया।

“ऐ संजू, वो देख तो…”

मैंने मुड़ कर देखा तो राखी नंगी हो कर एक झाड़ी के पीछे पड़ी थी। राहुल उस पर चढ़ा हुआ उसे चोद रहा था। वो फिर और जोर से हंसी और मुझे लॉन के दूसरे भाग उसने दिखाया, वहाँ चन्दा खूब जोर जोर से हंस रही थी और धीरज उसे खड़े-खड़े चोद रहा था।

तभी मुझे विवेक भी नजर आ गया, वो किसी ओर को नहीं बल्कि मेरी मम्मी की गाण्ड चोद रहा था। मेरे ऊपर वासना का रंग चढ़ने लगा था। मैने उसे नर्म हरी घास पर लेटा दिया था और मधु ने अपनी जींस उतार फ़ेंकी।

“ऐ संजू, गाण्ड चुदाई के दस हजार और चूत मारने के एक हजार … मंजूर है…?”

“बस … मैं दोनों के पन्द्रह हजार दूंगा… चल पहले गाण्ड चुदा…”

वो हंसते हुये उल्टी हो कर घोड़ी बन गई। मां ने दूर से मुझे देखा और मुस्करा दी, मैं भी प्रति-उत्तर में मुस्करा दिया। मेरा लण्ड मधु की नरम गाण्ड में उतर चुका था। औरों की तरह मैं भी चुदाई में लिप्त हो गया। बस नीतू नंगी हो कर अपने मम्में मसलते हुये हम सबको देख रही थी। कभी वो धीरज के पास जाती और अपनी चूचियाँ चुसवाती। कभी राहुल के पास जाकर उसकी उसकी गाण्ड में अंगुली पिरो देती। उस बेचारी का कोई साथी नहीं था। कैलाश किसी कारणवश नहीं आ पाया था। वो उसी की प्रेमिका थी। सबसे आखिर में मेरे पास आई। मैने मधु को छोड़ दिया और नीतू को पकड़ कर नीचे पटक दिया।

“सन्जू भैया, ये मत करो, ये तो बस कैलाश के लिये है।”

“जानू मुझे ही कैलाश समझ लो … चुदवा लो यार !”

“अरे, छोड़ दो उसे … मुझे चोदो ना…” मधु चीख उठी।

नीतू ने मधु को देखा, फिर उसे लगा कि जरूर कोई बात है, उसने मुझे कस कर पकड़ लिया,”अच्छा भैया चोद दे … जल्दी कर ना…!”

मैने लण्ड नीतू की चूत में रख कर अन्दर दबा दिया। नीतू आनन्द से चीख उठी। वो चुदने लगी… हम दोनो मस्ती में किलकारियाँ मार रहे थे। कुछ ही देर में हम सातवें आसमान में थे… काफ़ी देर चुदाई के बाद हमारा माल निकल गया और हम एक दूसरे पर पड़े हुये गहरी सांसें ले रहे थे। रिमझिम वर्षा की फ़ुहारें अभी भी हमारे नंगे बदन पर पड़ रही थी। मैं ज्योंही उठा सबकी तालियों की आवज आई। मैने चौंक कर देखा, सभी मेरे चारों ओर घेरा बना कर खड़े था। फिर एक बार और तालियाँ बज उठी।

कैलाश जाने कब आ गया था और पास ही में मधु को चोद रहा था। नीतू सबके इस तरह से देखने पर शरमा गई। मधु भी अपने आप को छुपाने लगी।

मम्मी भी मुस्करा कर बोल उठी,”ये तो आज नहीं तो कल सभी के साथ होना है … इसलिये अपनों के सामने शर्माओ नहीं … खुल कर खेलो, अभी तुम जवान हो, मस्ती से खुल कर चुदाओ… मेरी तरफ़ से सभी लड़कियों को पच्चीस-पच्चीस हजार मिलेंगे … सब खुश हो जाओ … जब भी मेरा बेटा ऐसी पार्टी देगा … ये इनाम जरूर मिलेगा।”

सभी ने उछल उछल कर तालियां बजाई। एक दो लड़कियों ने तो मेरी मम्मी के बोबे तक दबा दिये… गाण्ड के गोले तक उमेठ दिये। फिर मम्मी ने एक घोषणा और की,”जो मेरे बेटे से चुदवायेगी, उसे बोनस तीस हजार और दूंगी… आज ये मधु और नीतू को मिलेगा।”

सभी बहुत खुश हो गये थे। धीरज तो इतना खुश हुआ कि उसने मेरी मम्मी को नंगी लेटा कर चोदना आरम्भ कर दिया। उनकी चुदाई खत्म होने पर मम्मी ने अपने गले का सोने का हार धीरज के गले में डाल दिया। शाम ढलने पर उसी धीमी वर्षा में सभी लौटते समय एक होटल में रुक गये। शाम का खाना होटल में ही खाया। और फिर एक एक लड़की को मेरी मम्मी घर तक छोड़ने गई। उनके घर वालों को धन्यवाद दिया।

विजय पण्डित


Online porn video at mobile phone


"kamukta khaniya""mastram chudai kahani""meri bahen ki chudai""sexy aunti""saxy hinde store""kamukta com sexy kahaniya""girl sex story in hindi""mom and son sex story""aunty ki chut""sexy chut kahani""free hindi sexy story""mastram ki kahani in hindi font""hinde sax storie""new hindi sex kahani""kamukta www""indian wife sex stories""sexy stoties""bhai behn sex story""hot story with photo in hindi""bihari chut""hindisex story""www chodan dot com""सेक्सी कहानी""sexy story hondi""hot sexy story""hot sexy stories""husband and wife sex stories""हिंदी सेक्स कहानियाँ"chudaikikahani"best sex story""desi kahania""hot sex stories""anni sex stories""sex srories""सैकस कहानी""sexstory hindi""hindi sex kahani""hindi sexey stores""sexi hot kahani""hind sex""indian hot sex stories""chodai ki kahani""chudai ki khani""hindi sex katha""sext story hindi""first time sex story""chachi ki chut""sex kahani.com""hind sax store""sexy story in himdi""xossip hindi""hindi sex story image""behen ko choda""biwi aur sali ki chudai""first time sex story""tamanna sex story""hindi kahaniyan""sex story new in hindi""hot gandi kahani""bhai behan sex"antarvasna1"chudai khani""sexy khani""real sex story in hindi""bhabhi ki behan ki chudai""hot chachi story""चुदाई की कहानी""free sex story hindi""hot sex stories""hot sexy stories""chudai ki katha""isexy chat""train sex story""sex stories hot""hinde sax stories""sexy hindi sex story""hindi sexy kahani""sexy story in hinfi""sax storey hindi""sexi stori""hindi sexystory com""sexy chachi story""chudai hindi""hindi incest sex stories""sex hindi stories""first time sex story"www.antravasna.com"सेक्सि कहानी""sax satori hindi""hindi erotic stories""hindisex kahani""porn kahani""hindi sexi storied""bua ko choda""maa ki chudai bete ke sath"