दोस्त के सामने सेक्स किया उसकी बहन के साथ

(Dost Ke Samne Sex Kiya Uski Bahan Ke Sath)

हमारे और निशांत के परिवार की बीच में बहुत अच्छी दोस्ती थी वह लोग हमारे पड़ोस में ही रहते हैं हम लोग एक ही सोसाइटी में रहते हैं लेकिन ना जाने निशांत के पाप और मेरे पापा के बीच में किस बात को लेकर अनबन हो जाती है। उसके बाद निशांत के परिवार ने हमसे पूरी तरीके से संपर्क खत्म कर दिए निशांत की छोटी बहन जो कि बाहर में पढ़ाई करती है उसका नाम तापसी है जब तापसी मुझे मिली तो मैं तापसी को अपना दिल दे बैठा लेकिन हम दोनों के परिवार के बीच हुई दुश्मनी हम दोनों के प्यार के बीच आ जाती है। पहले तो मुझे तापसी को समझाने में ही काफी मेहनत करनी पड़ी जब तापसी मान गयी तो उसके बाद मेरे और तापसी के बीच में संबंध बन चुके थे लेकिन तापसी के पिताजी इस बात से बहुत नाराज हो गए और उन्होंने तापसी को घर में ही बंद कर लिया। Dost Ke Samne Sex Kiya Uski Bahan Ke Sath.

मैं तापसी को मिलने के लिए  बहुत ज्यादा बेचैन था लेकिन अब मेरी बारी थी यह बात मेरे पिताजी को भी मालूम चल चुकी थी और जब उन्हें यह बात मालूम चली तो उन्होंने मुझे कहा बेटा तुम तापसी से दूर ही रहो और हम नहीं चाहते कि तुम  किसी भी सूरत में तापसी से मिलो। पापा ने मुझे बेंगलुरु मेरे चाचा के पास भेज दिया मैं बेंगलुरु में ही अपनी जॉब करने लगा और मैं हमेशा तापसी के बारे में ही सोचा करता था। तापसी से कभी-कबार मेरी फोन पर बात हो जाया करती थी वह हमेशा अपना दुख मुझसे कहा करती और कहती की आकाश तुम मुझे घर से लेकर चले जाओ मैं तुम्हारे बिना नहीं रह सकती।

मेरे और तापसी के बीच में सबसे बड़ी दीवार मेरे पिताजी और तापसी के पापा थे मेरी कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि आखिर मैं कैसे तापसी को अपना बनाऊँ और कोई मेरा साथ देने को तैयार भी नही था। हालांकि तापसी का बड़ा भाई निशांत मेरा बहुत अच्छा दोस्त है निशांत और मेरी दोस्ती बहुत अच्छी थी लेकिन जब से मेरे पापा और निशांत के पापा के बीच में किसी बात को लेकर बहस हुई है तब से दोनों के बीच बातें बंद हो गई।

ना जाने मेरे पापा क्यों निशांत के पापा को बहुत भला बुरा कहा करते थे लेकिन उन दोनों की वजह से मेरे और तापसी के रिश्ते में दरार पैदा हो चुकी थी हम दोनों भी अब एक दूसरे से नहीं मिल पा रहे थे। मेरी तो कुछ समझ में नहीं आ रहा था लेकिन मैं तापसी के बिना एक पल भी नहीं रह सकता था और उसी के चलते मैं तापसी से मिलने के लिए एक दिन चला ही गया। मैं जब अपने घर गया तो पापा ने कहा क्या तुमने बेंगलुरु में जॉब छोड़ दी मैंने उन्हें कहा हां मैंने बेंगलुरु में जॉब छोड़ दी है अब मैं यहीं रहूंगा और यही रह कर कुछ काम करूंगा। पापा ने मुझे इस चीज के लिए नहीं रोका वह कहने लगे तुम्हें जिस भी सपोर्ट की आवश्यकता हो तो हम लोग तुम्हारे साथ खड़े हैं लेकिन एक बात तुम अपने जहन में डाल लो की तुम तापसी से दूर रहोगे। उन्होंने मुझसे कहा कि मैं किसी भी सूरत में तुम्हें तापसी से नहीं मिलने दे सकता मैंने उनसे बहुत कुछ भी नहीं कहा।

मैंने अपना ही एक छोटा सा कारोबार शुरू कर लिया उसमें मेरे पिताजी ने मुझे काफी मदद की लेकिन मैं तो तापसी से प्यार करता था और उसके बिना मैं एक पल भी नहीं रह सकता था मैं तापसी से किसी भी हाल में शादी करना चाहता था। मुझे जब एक दिन तापसी मिली तो मैं उसे देखकर कितना खुश हुआ यह मेरा दिल ही जानता है मेरे दिल की धड़कन तेज हो गई और मैंने तापसी को गले लगा लिया। तापसी बहुत डरी और सहमी हुई थी वह मुझे कहने लगी आकाश तुम मुझे छोड़ कर कहां चले गए थे मुझे तुम्हारी कितनी याद आती थी। मैंने तापसी से कहा कोई बात नहीं मैं सब कुछ ठीक कर दूंगा तापसी मुझे कहने लगी मैं तुम्हारे बिना एक पल भी नहीं जी सकती तुम कुछ भी करके मुझे अपना लो। मैं तापसी की तकलीफ को समझ रहा था उसे मैंने कहा तुम बस मुझे कुछ समय और दो मैं सबकुछ ठीक कर दूंगा।

तापसी कहने लगी तुम जल्दी सब कुछ ठीक कर दो मैं बहुत परेशान हो चुकी हूं तुम्हें तो मालूम है कि पापा और भैया बिल्कुल भी नहीं चाहते कि तुम्हारे साथ मेरा रिलेशन हो। मैंने तापसी से कहा ठीक है मैं कुछ सोचता हूं और फिर तापसी वहां से चली गई इतने समय बाद मैं तापसी से मिला था तो मुझे बहुत ही खुशी हुई और तापसी भी बहुत खुश थी। हम दोनों के बीच सब कुछ ठीक चल रहा था और उसी दौरान एक दिन मुझे निशांत मिला मैंने निशांत से बात करने की कोशिश की लेकिन निशांत मुझसे अपनी नजरें चुराने लगा।

मैंने गमन से कहा क्या तुम भी मुझसे बात नहीं करोगे तो निशांत ने मुझे कुछ जवाब नहीं दिया और जब वह कुछ देर बाद पलटा तो उसने मुझे कहा देखो आकाश तुम यहां से चले जाओ मैं नहीं चाहता कि मैं तुमसे किसी भी तरीके से दोस्ती रखूं या फिर मैं तुमसे बात करूं। मैंने निशांत से कहा निशांत तुम्हें याद है ना हम लोग बचपन में एक साथ ही खेला करते थे और हम दोनों एक साथ ही बड़े हुए हैं तुम यह बात कैसे भूल गए हम दोनों की दोस्ती कितनी गहरी थी।

यह कहानी आप decodr.ru पर पढ़ रहे है ।

निशांत कहने लगा मैं वह सब चीजें भूल चुका हूं और हम दोनों के परिवारों के बीच अब कोई लेना देना नहीं है तो फिर तुम भी इन सब चीजों को भूल जाओ। उसने मुझसे बिल्कुल भी अच्छे से बात नहीं की लेकिन मैं फिर भी हार नहीं माना और मैंने निशांत से बार-बार बात करने की कोशिश की। एक दिन निशांत अपनी बाइक से जा रहा था तो उसका काफी जबरदस्त एक्सीडेंट हुआ जिससे कि उसे काफी चोट भी आई लेकिन उसी वक्त मैं भी वहां से गुजर रहा था और मैंने उसे बिल्कुल सही वक्त पर अस्पताल पहुंचाया। यदि मैं उसे अस्पताल नहीं पहुंचाता तो शायद कोई बड़ी दुर्घटना हो सकती थी लेकिन निशांत को भी इस बात का एहसास था।

मैंने जब उसे अस्पताल में एडमिट करवाया तो वहां से मैं अपने घर चला गया ताकि किसी को ऐसा न लगे कि मैंने निशांत की मदद की है लेकिन निशांत को यह सब कुछ पता था। जब निशांत ठीक हो गया तो निशांत ने मुझसे एक दिन बात की और उसने मुझे गले लगा लिया मैंने निशांत से कहा क्या बात है तुम्हें हमारी पुरानी दोस्ती याद आ गई क्या। वह कहने लगा भला मुझे अपने पुराने दोस्ती कैसे याद नहीं आती तुमने मेरी जान जो बचाई है और उसके बाद तुम वहां से चुपचाप अपने घर चले आए, भला मैं तुम से कैसे गुस्से में रह सकता हूं।

निशांत से मेंरी दोस्ती दोबारा से हो चुकी थी लेकिन यह बात ना तो मेरे पापा को मालूम थी और ना ही निशांत के पापा को मालूम थी निशांत को मेरे और तापसी के बारे में सब कुछ पता था। निशांत ने मुझे कहा तुम दोनों एक दूसरे से बहुत प्यार करते हो ना मैं तुम दोनों को मिलवा लूंगा चाहे उसके लिए मुझे कुछ भी करना पड़े। मैंने निशांत से कहा तुम क्यों बेवजह अपने पापा से झगड़ा मोल ले रहे हो तुम्हें तो मालूम हीं है कि तुम्हारे पिताजी और मेरे पिताजी के बीच में बिल्कुल भी बात नहीं होती है यदि तुम ऐसा करोगे तो वह लोग तुमसे गुस्सा हो जाएंगे। निशांत कहने लगा मुझे अब उन सब चीजों से कोई फर्क नहीं पड़ता तुम ही मेरे सच्चे दोस्त हो और मैं तुम्हें और तापसी को मिलाकर ही रहूंगा।

निशांत ने मुझसे वादा किया था कि मैं तुम्हें तापसी से जरूर मिलवाऊंगा और उसने अपना वादा पूरा किया उसने मुझे कहा कि मैं तुम्हें फोन करूंगा तो तुम रात को अपने घर के बाहर आ जाना और तुम उसके बाद चुपके से कमरे में आ जाना। मैंने निशांत से कहा ठीक है मैं आ जाऊंगा रात के वक्त निशांत ने मुझे फोन किया मैं चुपके से घर के बाहर चला गया, मैं जब घर के बाहर गया तं निशांत ने अपने घर के पीछे का दरवाजा खोलो और उसने मुझे अंदर बुला लिया और कहा तुम अंदर आ जाओ।

मैं जैसे ही अंदर गया तो निशांत ने मुझे कहा तापसी अपने कमरे में होगी तुम वहां पर चले जाओ मैं बाहर बैठ कर देखता हूं। निशांत बाहर बैठ गया और मैं तापसी के पास चला गया मैं जब तापसी से मिला तो काफी समय बाद उससे मिलकर मुझे बड़ा अच्छा लगा मैंने उसे गले लगा लिया। हम दोनों की बेताबी बढ़ने लगी मैंने उसे किस भी कर लिया हम दोनों के अंदर गर्मी बढ चुकी थी। मुझे यह भी ध्यान नहीं रहा कि निशांत बाहर बैठा हुआ है तभी शायद निशांत के पापा उठे और निशांत अपने कमरे में सोने के लिए चला गया।

तापसी और मुझे मौका मिल चुका था मैंने भी तापसी के होठों को चूमना शुरू किया और हम दोनों ही अपने आप पर काबू नहीं रख पाए। मैंने तापसी के होठों को काफी देर तक किस किया उसके बदन से जो गर्मी बाहर निकलने लगी वह हम दोनों ही बर्दाश्त नहीं कर पाए। मैने तापसी की योनि को जब चाटना शुरू किया तो वह उत्तेजित होने लगी और मैं भी पूरे जोश में आ गया मैंने उसकी योनि को काफी देर तक चाटा।

हम दोनों पूरी तरीके से जोश में आ गए उससे बिल्कुल भी रहा नहीं गया मैंने तापसी से कहां मैं तुम्हारी योनि में अपने लंड को डाल रहा हूं। मैंने अपने लंड को जैसे ही तापसी की चूत में डाला तो उसके मुंह से हल्की सी चीख निकली और उसकी योनि से खून का बहाव होने लगा लेकिन मुझे उसे धक्के मारने में बड़ा मजा आता और मैं उसे तेजी से धक्के मार रहा था। इतने समय बाद हम दोनों मिले थे हम दोनों के अंदर की गर्मी बहुत ज्यादा बढ़ने लगी थी और उसे हम दोनों ही बर्दाश्त नहीं कर पा रहे थे। “Dost Ke Samne Sex”

जैसे ही मेरा वीर्य पतन तापसी की योनि के अंदर हुआ तो मैं पूरी तरीके से उत्तेजित हो गया था, मैंने दोबारा से उसकी योनि में अपने लंड को डाल दिया और उसे धक्के देने लगा। मैंने काफी देर तक उसकी चूत मारी जैसे ही दोबारा मेरा वीर्य उसकी योनि में गिरा तो हम दोनों ने अपने कपड़े पहन लिए। निशांत उठा और मुझे कहा तुम चले जाओ मैं पीछे के दरवाजे से घर के बाहर चला गया। अब भी हम दोनों मिलते हैं हम दोनों के भविष्य का अभी तक कुछ पता नहीं है कि हम दोनो का क्या होगा। “Dost Ke Samne Sex”


Online porn video at mobile phone


"mast sex kahani""hindi sexy hot kahani""sex chut""sister sex story""chachi ki chudai hindi story""mother son sex stories""bus me chudai""holi me chudai""gay sex stories indian""hindi sex story""hindi sexy stories""indian mother son sex stories""sexy storis in hindi""my hindi sex stories""sexy story""माँ की चुदाई""mami ki chudai""meri pehli chudai""office me chudai""office sex story"xstories"porn story hindi""hindi hot kahani""english sex kahani""hindi me chudai""brother sister sex story in hindi""hindi sexy storiea""hindi ki sex kahani""sexy story hot""office sex story""office sex stories""sex story hindi""romantic sex story""hot saxy story""sexy story in hindi with pic""phone sex in hindi""sexy storey in hindi"mastaram"hindi sex khani""sex stories with pictures""sex srories""www sex stroy com""chudai hindi story""chudai ki real story""www hindi sexi story com""gangbang sex stories""www kamvasna com""हॉट सेक्सी स्टोरी""bahan ki chudai story""chudai kahani maa""sex with sali""chudai ka maja""chodan. com""nangi chut kahani""hot sex kahani""dost ki wife ko choda""makan malkin ki chudai""sex khania""hindi sexi storeis""hot gay sex stories""hindisex storie""latest sex stories""chudai story with image""sax storis"indiansexz"sxe kahani""real sex khani""kamukta hindi story""chudai ki kahani""desi indian sex stories""maa ki chudai""boy and girl sex story"chudai"xxx hindi kahani""sex stories incest""sex kahani hindi new""hot sexy story in hindi""sexy story hindi in""हिंदी सेक्सी स्टोरीज""bhabhi ki choot""hinde saxe kahane""hinde sexstory""hindi sax storis""hot chudai ki story""desi sex story""maa bete ki sex story""sex stories mom""हिंदी सेक्सी स्टोरीज"